Home Politics मॉब लिंचिंग पर गृहमंत्री के बयान से विपक्ष असंतुष्‍ट

मॉब लिंचिंग पर गृहमंत्री के बयान से विपक्ष असंतुष्‍ट

259
0
politics news india in hindi

politics news india in hindi

संसद के मानसून सत्र के दूसरे दिन की शुरुआत भी हंगामे के साथ हुई है। केंद्रीय मंत्री जयंत सिन्हा को लेकर लोकसभा में विपक्षी सांसदों द्वारा हंगामा किया। सिन्हा जैसे ही भाषण के लिए उठे, विपक्षी सांसदों ने नारेबाजी शुरू कर दी। जयंत सिन्हा मॉब लिंचिंग के दोषियों का स्वागत कर विवाद में घिरे थे। इस बीच संसद में मॉब लिंचिंग पर सरकार की ओर से जवाब देते हुए गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि यह राज्‍य सरकारों की जिम्‍मेदारी है कि ऐसी घटनाओं पर लगाम लगाए। राजनाथ के बयान के बाद कांग्रेस ने लोकसभा से वॉकआउट कर दिया। इससे पहले कांग्रेस पार्टी ने भीड़ की हिंसा यानि मॉब लिंचिंग के मुद्दे पर लोकसभा में प्रश्‍नकाल स्‍थगित करने का नोटिस दिया। सत्र के पहले दिन भी मॉब लिंचिंग के मुद्दे पर लोकसभा में हंगामा हुआ था। हालांकि मोदी सरकार ने साफ कर दिया है कि वो किसी भी मुद्दे पर बहस के लिए तैयार हैं। फिर चाहे वो मुद्दा किसी भी पार्टी के द्वारा उठाया जाए।

politics news india in hindi

politics news india in hindi

सूत्रों के मुताबिक, मोदी सरकार के खिलाफ विपक्ष की ओर से लाये गए अविश्वास प्रस्ताव पर शुक्रवार को होने वाले मत विभाजन में सरकार को 314 सांसदों का समर्थन मिलेगा।

 

थरूर बोले- मॉब लिंचिंग पर गृहमंत्री का बयान संतोषजनक नहीं-
कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने कहा कि लोकसभा में गृह मंत्री राजनाथ सिंह का बयान संतोषजनक नहीं था, इसलिए हमने सदन से वॉकआउट करने का फैसला लिया। यह ‘पिंग पोंग’ का एक खेल नहीं है कि राज्य और केंद्र जिम्मेदारियों को स्थानांतरित करते रहेंगे।

मॉब लिंचिंग को रोकना राज्‍यों की जिम्‍मेदारी-
संसद में भीड़ की हिंसा यानि मॉब लिंचिंग पर सरकार की ओर से जवाब देते हुए गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि यह राज्‍य सरकारों की जिम्‍मेदारी है कि ऐसी घटनाओं पर लगाम लगाए। भीड़ की हिंसा को रोकना राज्‍यों की जिम्‍मेदारी है। केंद्र ने राज्‍यों को कई बार इस बारे में निर्देश दिए हैं। पिछले कुछ समय में ऐसी घटनाएं हुई हैं, जो दुखद हैं। इन घटनाओं की सरकार की ओर से वह आलोचना करते हैं।

शत्रुघ्‍न और छोटेलाल अविश्वास प्रस्ताव पर देंगे मोदी सरकार का साथ
शत्रुघ्‍न सिन्‍हा को लेकर अटकलें लगाई जा रही थीं, लेकिन बताया जा रहा है कि वह भी अविश्‍वास प्रस्‍ताव के खिलाफ वोट करेंगे। इधर भाजपा सांसद छोटेलाल ने कहा कि वह अविश्वास प्रस्ताव के खिलाफ वोट देंगे। उनकी नाराज़गी केंद्र सरकार या पार्टी से नहीं थी। मोदी जी कह चुके हैं कि आरक्षण खत्म नहीं होगा। गौरतलब है कि छोटेलाल ने योगी सरकार के खिलाफ पीएम मोदी को पत्र लिखा था। छोटे लाल रॉबर्ट्सगंज से दलित सांसद हैं।

शिवसेना ने नहीं खोले पत्‍ते
शिवसेना ने अपने पत्‍ते नहीं खोले हैं। संजय राउत का कहना है कि लोकतंत्र में विपक्ष की आवाज पहले सुनी जानी चाहिए, भले ही इसमें एक व्यक्ति शामिल हो। यहां तक कि जब भी आवश्यक होगा हम भी (शिवसेना) बोलेंगे। मतदान के दौरान, जो भी उद्धव ठाकरे जी हमें निर्देशित करते हैं, हम उसका पालन करेंगे।

politics news india in hindi

अविश्वास प्रस्ताव के समर्थन में डीएमके
इधर डीएमके के कार्यकारी अध्यक्ष एमके स्टालिन ने साफ कर दिया है कि वो टीडीपी द्वारा लाए अविश्वास प्रस्ताव का समर्थन करती है। उन्‍होंने कहा कि हम एआइएडीएमके से भी संसद में अविश्वास प्रस्ताव का समर्थन करने का अनुरोध करते हैं।

मोदी सरकार को 314 सांसदों का समर्थन
भारतीय जनता पार्टी ने उम्मीद जतायी है कि नरेंद्र मोदी सरकार के खिलाफ विपक्ष की ओर से लाये गए अविश्वास प्रस्ताव पर शुक्रवार को होने वाले मत विभाजन में सरकार को 314 सांसदों का समर्थन मिलेगा। केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार ने दावा किया है कि बीजेपी के नेतृत्व वाले एनडीए गठबंधन के सदस्य शिवसेना विपक्ष के अविश्वास प्रस्ताव के खिलाफ वोट देंगी।

सोनिया जी का गणित कमजोर
संसदीय कार्य मंत्री अनंत कुमार ने संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि एनडीए एकजुट है और अविश्वास प्रस्ताव के खिलाफ मतदान करेगा। उन्होंने कहा, ‘हमें एनडीए के बाहर के दलों से भी समर्थन मिलने की उम्मीद है। यह अजीब है कि भाजपा के अकेले दम पर बहुमत हासिल करने और 21 राज्यों में सत्तासीन होने के बावजूद विपक्ष अविश्वास प्रस्ताव लाया है। अनंत कुमार से जब सोनिया गांधी की ‘कौन कहता है कि हमारे पास नंबर नहीं हैं’ टिप्‍पणी के बारे में पूछा गया तो उन्‍होंने कहा कि सोनिया जी का गणित कमजोर है। उन्होंने 1996 में इसी तरह की गणना की थी। हम जानते हैं कि तब क्या हुआ। उनकी गणना अभी भी गलत है। मोदी सरकार के पास संसद और संसद के बाहर दोनों जगह ब‍हुमत है।

politics news india in hindi

politics news india in hindi

संसद परिसर में विरोध प्रदर्शन
इधर वाईएसआरसीपी के मंत्री संसद के परिसर में आंध्र प्रदेश को विशेष राज्‍य के दर्ज की मांग को लेकर प्रदर्शन किया। कांग्रेस के सांसदों ने भी किसानों के मुद्दों को लेकर संसद परिसर में विरोध प्रदर्शन किया। कांग्रेस सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि मोदी सरकार की एमएसपी में बढ़ोतरी कर किसानों के साथ धोखा है।

politics news india in hindi

politics news india in hindi

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here